#26 PANCHTANTRA KI KAHANIYA- HINDI STORY- MORAL STORY IN HINDI - B The Next

Latest

B the next -This blog based on HINDI STORIES, BUSINESS IDEAS, THOUGHTS IN HINDI, entrepreneurship, success factors, moral education,

#26 PANCHTANTRA KI KAHANIYA- HINDI STORY- MORAL STORY IN HINDI

मज़दूर के जूते (HINDI STORY)



एक बार एक अमीर आदमी अपने बेटे के साथ कहीं जा रहा था। तभी उन्हें रास्ते में एक जोड़ी पुराने जूते दिखे, जो संभवतः पास के खेत में काम कर गरीब मज़दूर के थे। मज़दूर काम ख़त्म करके घर लौटने की तैयारी कर रहा था। तभी बेटे ने अमीर पिता से कहा की, पिताजी, क्यों ना इन जूतों को छिपा दें, मज़दूर को परेशान देखकर बड़ा मजा आएगा। आदमी ने गंभीर होकर कहा की किसी का मज़ाक उड़ाना सही नहीं है, इसके बजाए क्यों ना हम इन जूतों में कुछ सिक्के डाल दें और देखें की मज़दूर पर क्या प्रभाव पड़ता है, बेटे ने वैसा ही किया और फिर पिता-बेटे छिपकर मज़दूर को देखने लगे, काम ख़त्म करके आये मज़दूर ने जब जूतें पहने तो उसे किसी कठोर चीज़ का आभास हुआ उसने जूतों को पलटा तो उनमे से सिक्कें निकल आये मज़दूर ने इधर उधर देखा, जब उसे कोई नज़र नहीं आया तो उसने सिक्कें जेब डाल लिए और बोला की हे भगवान, उस अनजान सहायक का धन्यवाद जिसने मुझे यह सिक्के दिए उसके कारण आज मेरे परिवार को खाना मिल सकेगा मज़दूर की बातें सुनकर बेटे की आँखें भर आयी और वह अपने पिता से बोला की सच है लेने की अपेक्षा देना कहीं अधिक आनंददायी  होता है।


मंत्र :- किसी को कोई ख़ुशी देने से बढ़कर और कोई सुख नहीं है।


अगर आपको यह  कहानी पसंद आयी हो तो आप हमारे ब्लॉग को और लोगो तक शेयर करे।

Team:- Be The Next  
Email:- bethenext04@gmail.com
Moral mantra

No comments:

Post a Comment