#37 PANCHTANTRA KI KAHANIYA- HINDI STORY- MORAL STORY IN HINDI - B The Next

Latest

B the next -This blog based on HINDI STORIES, BUSINESS IDEAS, THOUGHTS IN HINDI, entrepreneurship, success factors, moral education,

#37 PANCHTANTRA KI KAHANIYA- HINDI STORY- MORAL STORY IN HINDI

जीवन का संघर्ष (HINDI STORY)



एक व्यक्ति को तितली का एक कोकून मिला, जिसमे से तितली बाहर आने का प्रयत्न कर रही थी। कोकून में एक छोटा सा छेद बन गया था। जिससे बाहर निकलने को तितली आतुर थी लेकिन वह छेद बहुत छोटा था उस व्यक्ति से यह देखा नहीं गया और वह  जल्दी से कैंची ले आया और उसने कोकून को एक तरफ से काट कर छेद बड़ा कर दिया। तितली आसानी से बाहर तो आ गयी। लेकिन वह अभी पूरी तरह विकसित नहीं थी। उसका शरीर मोटा और भद्दा था। और पंखो में जान नहीं थी। दरसल प्रकृति उसे कोकून के भीतर से निकलने के लिए संघर्ष करने की प्रकिया के दौरान उसके पंखो को मजबूती देने, उसकी शारीरिक  बढ़ाने व उसके शरीर को सही आकार देने का भी कार्य करती है। जिससे जब तितली स्वयं संघर्ष कर, अपना समय लेकर कोकून से बाहर आती है तो वह आसानी से उड़ सकती है। प्रकति की राह में मनुष्य रोड़ा बनकर आ गया, भले ही उसकी नियत मदद करने की रही हो। नतीजन तितली कभी उड़ ही नहीं पायी और जल्द ही मर गयी।


मंत्र:- संघर्ष के बाद ही कोई भी जीव निखर कर आता है और उसके दम पर ही जीत हासिल होती है। 


अगर आपको यह  कहानी पसंद आयी हो तो आप हमारे ब्लॉग को और लोगो तक शेयर करे।

Team:- Be The Next  
Email:- bethenext04@gmail.com
Moral mantra

No comments:

Post a Comment